धर्म / इतिहास

अनोखा है गाजीपुर के पाली गांव का यह मंदिर, अंग्रेजों से जुड़ा है इतिहास

पंच मंदिर पाली गाजीपुर

रजनीश कुमार मिश्र, बाराचवर (गाजीपुर) 

उत्‍तर प्रदेश के गाजीपुर जिले गांव पाली में करीब चार सौ साल पुराना एक ऐसा मंदिर है, जिसका संबंध अंग्रेजों से जुड़ा हुआ है। इस ऐतिहासिक मंदिर को पंच मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर की वास्‍तु कला भी आकर्षक है। कहा जाता है,की राधा कृष्ण का पंच मंदिर करीब चार सौ साल पुराना है। ग्रामीणों ने बताया की उस समय के जमीदार शिव वर्त जायसवाल पंच मंदिर का निर्माण करवाया था।

भव्यता को दर्शाता, राधा कृष्ण का पंच मंदिर

पाली गांव में मौजूद चार सौ साल पुराना पंच मंदिर अपने इतिहास को समेटे हुए, आज भी उसी तरह.अपने भव्यता की छठा को विखेर रहा है,जैसे चार सौ साल पहले था। यहां के पुजारी मुनिन्द्र दास ने बताया की ऐतिहासिक मंदिर पर एक बार वाराणसी से पर्यटन विभाग के कुछ लोग भी आये थे,और इस जगह को पर्यटन स्थल बनाने के लिए सर्वे भी किया था।

अनोखा है गाजीपुर के पाली गांव का यह मंदिर, अंग्रेजों से जुड़ा है इतिहासब्राह्मण को फांसी से बचाने के लिए ब्राह्मण के वजन के बराबर अंग्रेज अधिकारी को दिया पैसा, उसी पैसे से बना मंदिर

किवदंती है,की ब्रिटिश काल में गाजीपुर में एक ब्राह्मण को किसी अपराध को लेकर फांसी की सजा हुई थी। उस दौरान ब्रितानी जज ने शर्त रखा की अगर गाजीपुर का कोई भी व्यक्ति इस ब्राम्हण के वजन के बराबर मुद्रा लाता है। तो ब्राह्मण को वरी कर दिया जायेगा। ग्रामीण सुरेश पान्डेय बताते हैं की उस समय शिवव्रत जायसवाल किसी काम के सिलसिले में गाजीपुर गये हुए थे। उन्होंने बताया की जब उन्हें पता चला तब जज के पास.पहुंच कहा की आप हमे एक दिन का समय दिजिए।
मंदिर पर मौजूद बबन राय ने बताया की अगले दिन यहां के जमीदार शिववर्त जायसवाल मुद्रा लेकर जज के पास पहुंच मुद्रा दे दिया। उस समय शिववर्त जायसवाल ने जज से कहा की आप ब्राम्हण को एक तराजू पर और एक पर मुद्रा रख तौल कर ले। उस समय गाजीपुर के ब्रितानी जज ने जब तौल किया तो मुद्रा उस ब्राम्हण से अधिक हो गया। तब जज ने उस.ब्राम्हण को शर्त के अनुसार बरी कर दिया।

अंग्रेज जज ने वापस किया पैसा तो बना मंदिर

शिववर्त जायसवाल के पीढ़ी के पारस नाथ जायसवाल ने बताया की उस समय जो मुद्रा जज को दिया गया था। उस पैसे को जज ने वापस कर दिया। उन्होंने बताया की शिवव्रत जब पैसा लेकर वापस घर आये तो यहां विद्वानों ने कहा की ब्राम्हण को दान किया हुआ पैसा लिया नहीं जाता। अतः इस पैसे से मंदिर, तालाब व कुएं का निर्माण करा दे।

12 वर्ष में बना था पंचमंदिर

पारस नाथ जायसवाल ने बताया की उन्हीं पैसों से गाजीपुर घाट पर एक तालाब का निर्माण कराया गया। उन्होंने बताया की कासिमाबाद तहसील के अंतर्गत एक बेद विहारी का पोखरा जिसका निर्माण शिवव्रत जायसवाल ने ही कराया। उन्होंने कहा की शिवव्रत जायसवाल ने बहुत से तलाबो व कुएं का निर्माण कराया। उन्होंने बताया की अपने गांव पाली में राधा कृष्ण का पंच मंदिर का निर्माण कराया जो लगातार 12 साल तक चलता रहा।

राधाकृष्ण मंदिर के संयुक्त पांच देवी देवताओं का भी मंदिर

राधा कृष्ण के मंदिर के साथ पाच देवी देवताओं का मंदिर का भी निर्माण कराया गया है। इसी वजह से इस मंदिर को पंच मंदिर कहा जाता है। नक्काशी युक्त राधा कृष्ण पंच मंदिर के साथ सूर्य मंदिर, शिव मंदिर, दुर्गा मंदिर, गणेश मंदिर का भी निर्माण कराया गया है। वैसे मुख्य रुप से ये राधाकृष्ण का मंदिर है।

56 खंभों के साथ राजस्थानी शैली में मंदिर का निर्माण

इस ऐतिहासिक मंदिर का निर्माण 56 खंबों के साथ किया गया है.इस मंदिर में राजस्थानी कलाकृतियों का निर्माण बखूबी किया गया। रामबचन राय बताते हैं कि इस मंदिर का निर्माण करी 12 साल तक लगातार चलता रहा।  उन्होंने बताया की इस ऐतिहासिक मंदिर में 56 खंभे बने हुए है। इस मंदिर का निर्माण राजस्थानी शैली मे हुआ है। जो इतने शालो बाद भी न जाने कितने तुफानो को झेलते हुए आज भी अपने अद्भुत झटा को दर्शा रहा है।

औचार बीघे में फैला है मंदिर

पाली गांव के ग्रामीण बताते है कि मंदिर चार.बीघे में फैला हुआ है। ग्रामीणों का कहना है कि इस मंदिर की संपत्ति को जिसने भी लूटने की कोशिश किया लगभग सभी लोग नेस्तनाबूद हो गये। ग्रामीणों ने बताया की ये चमत्कारी मंदिर है। मंदिर के पुजारी मुनिन्द्र दास ने बताया की इस मंदिर में राधाकृष्ण की अष्ट धातु मुर्ति स्थापित था। इस मुर्ति को चुराने के नियत से असलहे के साथ मंदिर में प्रवेश किया लेकिन तभी एक सांप ने उन चोरो को डस लिए और सांप के डसने के कारण चोर अपना असलहा छोड़ चले गये।

आज भी मिलती है अंग्रेजों के जमाने की लगाई पेंशन

बबन राय व सुरेश पान्डेय ने बताया की ब्रितानी हुकूमत के दौरान ब्रितानी बैंक में मंदिर के नाम से कुछ पैसा भी जमा था। जिसका आज भी कुछ ब्याज मिलता है। उन्होंने बताया की पैसा कितना जमा था ये तो पता नहीं पर आज भी मंदिर के खाथे में कुछ ब्याज मिलता है। वहीं कुछ ग्रामीणों का कहना है,की इस स्थान चुनाव के वक्त जनप्रतिनिधि आते है,और बड़े बड़े वादे कर चुनाव जीतने के बाद भुल जाते है।

बुद्धिजीवी ग्रामीणों ने बताया की सरकार व जिला प्रशासन के तरफ कोई अनुदान मंदिर को नहीं मिलता है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर इस जगह को पर्यटन स्थल बना दिया जाय तो मंदिर के बिकास के साथ साथ बेरोजगारों को कुछ रोजगार भी मिल जायेगा।

चार सौ साल पुराना मंदिर का प्रमुख गेट

ऐतिहासिक राधाकृष्ण के मंदिर के चार सौ साल पुराने निशानी के तौर पर एक मुख्य गेट बचा हुआ है,जो अब बंद कर दिया गया है। मंदिर के पुजारी ने बताया की इस गेट का निर्माण मंदिर के समय ही हुआ था।जिसे जर्जर स्थिति में होने के कारण अब बंद कर दिया गया है। ग्रामीण सुरेश पान्डेय बताते है,की यह पंच मंदिर गाजीपुर जनपद के महानतम धार्मिक स्थलो में गीना जाता है। लेकिन यहां के जिला प्रशासन के तरफ से आज तक कोइ अनुदान प्राप्त नहीं हो सका।

Jharokha

द झरोखा न्यूज़ आपके समाचार, मनोरंजन, संगीत फैशन वेबसाइट है। हम आपको मनोरंजन उद्योग से सीधे ताजा ब्रेकिंग न्यूज और वीडियो प्रदान करते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button