the jharokha news

झरोखा न्यूज:अमीर बनने की लालसा दे रही अपराध के नए तरीकों को जन्म

झरोखा न्यूज:अमीर बनने की लालसा दे रही अपराध के नए तरीकों को जन्म

झरोखा न्यूज डेस्क, अमृतसर
शीघ्र अमीर बनने का क्रेज आजकल लोगों के सिर चढ़ कर बोल रहा है। कमोबेस यह प्रवृत्ति देश के रह राज्‍यों में हैं। लेकिन, पंजाब में यह चलन कुछ ज्‍यादा है। खुद को मृत घोषित कर बीमा की राशि हड़पने से लेकर सरकारी खजाने को चपत लगाने तक के माले शामिल हैं।

जो लोग पंजाबी भाषा की फिल्‍में देते होंगे उन्‍हें ‘कप्‍तान’ फिल्‍म याद होगी। गिप्‍पी ग्रेवाल अभिनित क्षेत्रीय भाषा की (पंजाबी) यह फिल्‍म कप्‍तान 20 मई 2016 को रिलीज हुई थी। इसमें दिखाया गया था कि किस तरह से एक कारोबारी दूसरे प्रदेश के एक मजदूर को जला कर मार डालता है। और जिंदा व्‍यक्ति को मुर्दा घोषित कर उसकी प्रॉपर्टी और बीमा की रकम हड़पने का प्रयास करता है। सच में फिल्‍मों को समाज का आइना कहा गया है। झरोखा न्यूज: कुछ फिल्‍में घटना के बाद बनती हैं तो कुछ घटना के वर्षों पहले बन जाती हैं।

6 करोड़ बीमा की रकम के लिए जला दिया था भिखारी को (झरोखा न्यूज)

गत वर्ष दिसंबर 2019 में पंजाब के सीमावर्ती जिला तरनतारन में हाईवे किनारे पुलिस को एक अधजला शव मिला था । इसके पास ही लावारिश हालत में एक कार भी मिलती थी। उस समय पुलिस कार से मिले कागजात के आधार पर शव की शिनाख्‍त अमृतसर निवासी अनूप सिंह के रूप में की थी। पट्टी-हरीके रोड पर गांव बूह हवेलिया के पास हुई इस घटना ने उस समय प्रदेशभर के लोगों का ध्‍यान अपनी तरफ खींचा था।

crime

पुलिस को दी शिकायत में अनूप सिंह के पिता ने बताया था कि उनका बेटा चार दिसंबर की रात कार से दिल्‍ली के लिए निकला था, लेकिन फोन करने पर कोई जवाब नहीं मिला। दूसरे दिन उसकी हत्‍या कर शव जलाने की सूचना उसे पुलिस द्वारा मिली।
एसपी (देहात) जगजीत सिंह वालिया ने बताया कि पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल शुरू की। पुलिस की जांच जब आगे बढ़ी तो अधजली लाश की गुत्‍थी सुलझने लगी। लेकिन, इस बीच जो तथ्‍य निकल कर सामने आए वह वाकई हैरान कर देने वाले थे। जांच में खुलासा हुआ कि जिस अधले शव की पहचान 27 वर्षीय कारोबारी अनूप सिंह के रूप में हुई थी।

वह अनूप नहीं बल्कि एक भिखारी का शव था, जिसे अनूप ने वारदात से करीब एक माह पहले की नौकरी पर रखा था।
पुलिस डायरी के मुताबिक अमृतसर निवासी अनूप सिंह कोल्‍ड ड्रिंक का कारोबारी था। उसे कारोबार में घाटा लगने लगया। इस दौरान उसने बीमा की छह करोड़ रकम लेने के लिए खुद की हत्‍या किए जाने की शाजिस रची। इसी साजिश के तहत उसने एक भिखारी को अपने यहां नौकरी पर रखा। उसे विश्‍वास में लेने के बाद दिल्‍ली जाने के बहाने उसे भी अपने साथ कार में बिठा लिया और रास्‍ते जमकर उसे शराब पिलाई। झरोखा न्यूज

इसके बाद तरनतारन जिले के पट्टी के पास पहुंचने पर उसकी गला दबा कर हत्‍या के बाद हाईवे किनारे सुनसान जगह पर उसके शव को जला दिया। और खुद को मरा साबित करने के लिए अपनी कार को लावारिश हालत में वहीं छोड़ कर भूमिगत हो गया। बहरहाल इस समय आरोपी अनूप, उसका भाई और उसके इस काम में सहयोग देने के आरोप में पिता भी सलाखों के पीछे हैं।

पुलिस को ऐसे हुआ था शक(झरोखा न्यूज)

पुलिस के मुताबिक उस दिन (वारदात की सुबह) सुबह जब लाश मिली थी तो पुलिस ने अनूप के पिता तरलोचन सिंह को सुबह सवा सात बजे फोन पर सूचना दी। तरलोचन सिंह अपने दूसरे बेटे करणबीर सिंह के साथ लगभग चार घंटे बाद सवा 11 बजे घटनास्थल पर पहुंचा। पुलिस को पहला शक यहीं से शुरू हुआ था। क्योंकि अमृतसर से हरिके पत्तन पहुंचने के लिए मात्र 45 मिनट का समय लगता है।

दूसरा शक तक शुरू हुआ जब, अनूप सिंह का शव देखने के बाद मृतक का पिता तरलोचन सिंह और भाई करणबीर के चेहरे पर दुख का कोई भाव नहीं दिखा। इसके बाद पुलिस का शक गहरा गया। गुत्‍थी को सुलझाने में जुटी पुलिस ने अनूप सिंह के मोबाइल फोन को ट्रेस किया तो उस समय उसकी लोकेशन हरियाणा आ रही थी। (झरोखा न्यूज)

पुलिस ने तरलोचन सिंह और करणबीर सिंह को गिरफ्तार कर सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने सारा राज उगल दिया। क्राइम रिपोर्ट के मुताबिक अनूप सिंह के बीमा की राशि के लिए अपनी मां मनप्रीत कौर को नॉमिनी बनाया हुआ था। और इसी राशि को पाने के लिए आरोपितों ने एक भिखारी की बलि दे दी।

झरोखा न्यूज:पांच करोड़ के लिए जला दिए दो लोगों को

कुछ इसी तरह की वारदात अमृतसर में भी हुई थी। इस घटना में पांच लोगों ने मिल कर बीमा की राशि पाने के लिए दो लोगों को कार में जिंदा जला कर मार दिया था। दिल को दहला देने वाली यह वारदात वर्ष 2013 की है। यह वारदात भी सर्दी की काली रात में हुई थी। जंडियाला गुरु के पास पुलिस को एक जली हुई कार मिली। सूचना पा कर जंडियाला गुरु पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उसे जली हुई कार के भीतर से दो शव बरामद हुए थे।

जिला अमृतसर देहाती पुलिस ने जब पड़ताल शुरू की तो पता चला कि अमृतसर के रहने पांच लोगों ने मिल कर इस वारदात को पांच करोड़ की बीमा राशि पाने के लिए अंजाम दिया था। पुलिस के मुताबिक पांचों आरोपी दिल्‍ली जाने के बहाने अपने दो नौकरों को कार में बिठाया। उन्‍हें जम कर शराब पिलाई और जंडियाला गुरु के पास सुनसान जगह पर हाइवे के किनारे कार में जींदा जला कर मार दिया। इनमें से दो आरोपी खुद को मरा हुआ साबित कर बीमा की राशि हड़पना चाहते थे। करीब तीन साल की सुनवाई के बाद इस समय ये पांचों आरोपी जेल में सजा काटा रहे हैं। झरोखा न्यूज

Read Previous

अच्छी कमाई कर लेती हैं गैंगस्टर्स के जीवन पर बनी फिल्में

Read Next

द झरोखा न्यूज: गुरुद्वारा श्री गोइंदवाल साहिब, यहां पड़े थे श्री गुरु अमरदास जी के चरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!