the jharokha news

Ayoudhya News : हनुमान चालीसा पढ़ने पर कालेज से निकाला, टीसी पर लिखा धार्मिक उन्माद फैला रहे थे, मुस्लिम इंटर कालेज का मामला

हनुमान चालीसा पढ़ने पर कालेज से निकाला, टीसी पर लिखा धार्मिक उन्माद फैला रहे थे, मुस्लिम इंटर कालेज का मामला

फोटो। सोशल साइट से ली गई है

Ayoudhya News : भगवान श्री राम एवं धार्मिक सौहाद्र की नगरी Ayoudhya अयोध्या हनुमान चालीसा पढ़ने पर 11वीं कक्षा के दो छात्रों को स्कूल से नाम काट कर उन्हे टीसी पकड़ा दी गई। यह माला Ayoudhya अयोध्या के मुस्लिम इंटर कालेज का बताया जा रहा है। आरोप है फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज के ये दोनो छात्र स्कूल में हनुमान चालीसा पढ़ कर धार्मिक उन्माद फैला रहे थे।
इस मामले में हिंदू संगठनों ने इसे मुस्लिम इंटर कालेज के प्रबंधन की मनमानी बताते हुए आपत्ती जताई है। छात्रों के नाम काटे जाने का मामला जिले के थाना रौनाही क्षेत्र के गांव सोहावल का बताया जा रहा है। हिंदू संगठनों ने इस मामले में कालेज की मान्यता रद करने की मांग की है।

इस मामले में स्कूल से निकाले गए छात्र सौरव यादव का कहना है कि वह फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज में 11वीं कक्षा का छात्र है। उसने बताया कि वह अन्य मुस्लिम सहपाठी छात्रों के साथ बैठक कर रहीम के दोहे पढ़ रहा था, इसी दौरान एक मुस्लिम छात्र ने उसे रहीम के दोहे की जगह कुरान पढ़ने को कहा। सौरव ने बताया कि इसके बाद वह हनुमान चालीसा पढ़ने लगा। इस पर मुस्लिम छात्र ने उसकी शिकायत कालेज प्रबंधन से कर दी। प्रबंधन ने उसकी बात सुने बिना ही उसका नाम काट कर उसे टीसी दे दी।
वहीं फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज का ही दूसरा छात्र माधवेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि वह अपने क्लास में होमवर्क कर रहा था। उसे नहीं पता कि उसे कालेज से क्यों निकाला गया।

इस संबंध में फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज के मैनेजर के बेटे अकरम सिद्दीकी ने कहा कि यह घटना गत मंगलवार की है। उस दिन 11वीं के छात्र माधवेंद्र प्रताप सिंह और सौरव यादव क्लास के छात्रों से हिंदू-मुसलमान के मुद्दे पर बात कर रहे थे। इस पर कुछ छात्रों ने उनको रोका। मगर, दोनों नहीं माने। इसी पर इन दोनो का नाम धार्मिक उन्माद फैलाने के आरोप में काट दिया गया।







Read Previous

Jabalpur News: अस्पताल में लगी आग, 8 लोग जिंदा जले, मरने वालों में दो उत्तर प्रदेश के

Read Next

Ludhiana News : पति ने पत्नी का गला रेता, चरित्र पर करता था संदेह