the jharokha news

Ghazipur news : 19 जनवरी की स्ट्राइक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की ऐतिहासिक हड़ताल गाजीपुर इकाई के नेतृत्व मे

ghazipur strike, 19 जनवरी की स्ट्राइक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की ऐतिहासिक हड़ताल गाजीपुर इकाई के नेतृत्व मे, The strike of 19 January, the historic strike of the Medical Representative led by the Ghazipur unit

राजू पांडेय, Ghazipur news : गाजीपुर पूरे देश में आज 19 जनवरी को लेबर कोड काले कानून के विरोध में सरकार को आगाह करते हुए एमआर यूनियन गाजीपुर की इकाई के साथियों द्वारा स्ट्राइक किया गया गाजीपुर इकाई का नेतृत्व वरिष्ठ मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव एवं प्रदेश कार्य समिति के सदस्य आर एम राय के नेतृत्व में पूरे जोश के साथ गाजीपुर एमआर यूनियन ने स्ट्राइक की

हड़ताल का अर्थ : पूरी तरह से काम बंद, सिर्फ हड़ताल। कई कंपनी के मैनेजर बहुत होशियार होते है, वो बाते ऐसे कंरेंगे की हमे लगेगा कि वो हमारे साथ, हमारी मांगो व हड़ताल के साथ है। लेकिन वो हमारे हड़ताल को बड़ी चालाकी के साथ भंग करने की कोसिस करते है।

जैसे कि ….
फ़ोन करके बोलेंगे की तुम्हारी मांगे जायज है मैं तुम्हारे साथ हु। फिर बोलेंगे, एक छोटा सा काम है,
1) एक काम करो इस डॉक्टर को थोड़ा फ़ोन करके बात कर लो।
2) इस डिस्ट्रिब्यूट से सिर्फ 1 मिनट फ़ोन पर बात कर लो।
3) इस डिस्ट्रीब्यूटर से बस फ़ोन करके आर्डर ले लो।
4) छोटा सा फॉरमेट है इसमें 2 मिनट लगेगा, इसको भेज दो।
5) इस डिस्ट्रीब्यूटर/केमिस्ट व डॉक्टर से जाते समय 1 मिनट के लिए मिल लेना।

ऐसे तरह तरह के मीठी मीठी बाते करके हमारी हड़ताल को भंग करने की कोसिस करते है।

हड़ताल का मतलब सबकुछ बंद, अगर हम काम कर रहे चाहे वो छोटा हो बड़ा, तो हड़ताल किस बात की।
अगर हम हड़ताल कर रहे है तो काम किस बात का।
हड़ताल मतलब सब हड़ताल।।

इन सभी चीजों को हमे ध्यान रखना है |

उक्त मौके पर पूर्व जिला अध्यक्ष अफजाल भाई वर्तमान जिला अध्यक्ष मयंक श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष चंदन राय रितेश दत्त पांडे बृजेश राय नागेश मिश्रा विशाल जयसवाल मन्नू यादव रोहित राय बबूआन बृजेश यादव अमित कुमार सिंह जी एस के सौरभ राज सुनील राय मोहित कृष्णा शर्मा ओंकार मिश्रा एवं सैकड़ों मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए भाग लिया







Read Previous

UP news : बसपा ने ब्राह्मण चेहरे को बनाया प्रत्याशी

Read Next

UP election 2022 : जहुराबाद के (vidhan sabha)विधायक ओमप्रकाश राजभर, विकास के नाम पर कही गिट्टी गिरा कर छोड़ा, तो कही दिया खम्भा