the jharokha news

मानवीय भारत पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुक्तेश्वर का राजनीतिक सुधार यात्रा के 100 दिन पूरे होने एवं आवारा पशुओं के कारण किसानों की फसलों की बर्बादी पर किया प्रेस कांफ्रेंस


लखनऊ, राजा सिंह : 2 सितम्बर 2021 को राजनीतिक सुधार यात्रा उत्तर प्रदेश की विधान सभा के मुख्य गेट से शुरू किया था जिसके 100 दिन पूरे हो चुके है। इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष मुक्तेश्वर ने लखनऊ हरदोई, उन्नाव, सीतापुर और बाराबंकी के 500 से भी अधिक गावो कसबों, बाजारों चौराहों में अपनी सभाएं की और आम जनता से सीधा संपर्क किया | राजनीतिक सुधार यात्रा का उद्देश्य लोगों को उनक राजनीतिक अधिकारों के बारे में जागरूक और संवेदनशील करके राजनीति में शुचिता की स्थापना करना है। इसका मूल मकसद राजनीतिज्ञों विशेषकर जन प्रतिनिधियों को जनता के प्रति जबाबदेह बनाना है। हम जहाँ भी जा रहे हैं लगभग सभी स्थानों पर शिक्षा और स्वास्थ्य की घोर उपेक्षा के दर्शन कर रहे हैं. साथ-साथ वेरोजगार नौजवानों के झुण्ड सड़कों पर घूमतें और दुकानों पर भीड़ लगाये समय पास करते दिखायी पड़ते हैं। लोगों में नेताओं, अफसरों के भ्रष्टाचार और असंवेदनशीलता के प्रति गहरा आक्रोश है। किसान, मजदूर, नौजवान सभी अपने भविष्य को लेकर असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

किसानों की वर्तमान में सबसे बड़ी समस्या आवारा छुट्टे पशु है जो उनकी फसल को घर ले रहे है अथवा नष्ट कर रहे हैं। यह समस्या राज्य के लगभग सभी जनपदों में गंभीर रूप लेती जा रही है। किसान के पसीने से उगाई गयी फसल रातो रात पशुओं द्वारा नष्ट कर दी जा रही है, जिसके कारण किसान बर्बाद हो रहे हैं परन्तु सरकार इतने गंभीर मसले पर भी संवेदनहीन है। हमने माननीय मुख्यमंत्री जी को पत्र लिखकर इस मामले पर शीघ्रातिशीघ्र समुचित कदम उठाने का आग्रह किया है। हम आपके माध्यम से सरकार को आगाह करना चाहते हैं की यदि सरकार इस मामले पर एक सप्ताह के अन्दर समुचित समाधान नहीं करती तो मेरी पार्टी को किसानों के हित में एक प्रभावी आन्दोलन शुरू करने को बाध्य होना पड़ेगा।

यह भी पढ़े
जी हुजूर ! आखिर कब तक होगी न्याय, "भ्रष्ट जांच अधिकारी" के चक्कर में फसा टोडरपुर गांव

राष्ट्रीय अध्यक्ष मुक्तेश्वर ने बताया कि 2 सितम्बर को राजनीतिक सुधार यात्रा शुरू की थी तो इसे फरवरी 2022 तक जारी रखने की बात की थी परन्तु गावों में जाने के बाद मुझे लगा की हमें राज्य के सभी गावों में जाना होगा इसलिए अब हमने इस यात्रा को मई 2024 तक जारी रखने का निर्णय किया है। राजनीतिक सुधार एक समग्र सुधार आन्दोलन है जिसमे राजनीति में सुधार के साथ ही चुनाव प्रक्रिया, प्रशासन, न्यायपालिका शिक्षा, स्वास्थ्य, स्थानीय शासन और मीडिया में सुधार शामिल है। उपरोक्त सभी सुधारों की रीढ़ है राजनीतिक व्यवस्था में सुधार करके इसमें नैतिक मूल्यों की स्थापना करना तथा राजनेताओं को जनता के प्रति जवाबदेह बनाना । दिनांक 11 दिसंबर 2021.

राष्ट्रीय अध्यक्ष मुक्तेश्वर
कार्यालय सी-107, सेक्टर-बी. अलीगंज लखनऊ उत्तर प्रदेश





Read Previous

प्रदेश नेतृत्व के अवाहन पर भाजपा का चला सफाई अभियान

Read Next

दिलशादपुर लूट कांड का एक और आरोपी लगा पुलिस के हाथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *