the jharokha news

लावारिस के वारिस को देख बहने लगे आंसू।

गाजीपुर : गरीब असहाय सहयोग संगठन के द्वारा जनपद गाजीपुर के बिभिन्न थाना क्षेत्र से बरामद अज्ञात शव का अंतिम संस्कार कराना एवं जीवित लावारिस ब्यक्तियों का सेवा सहयोग करना एवं पहचान हेतु लावारिस ब्यक्तियों का फोटो न्यूज एवं सोशल मीडिया के माध्यम से पोस्ट कर लावारिस से वारिस होने का प्रयास करना समाज के लिए संजीवनी का कार्य करता है।

यह संगठन जनपद गाजीपुर में यह कार्य लगभग पिछले 6 वर्षों से निरन्तर करता आ रहा है। इस कार्य को करने हेतु संगठन किसी प्रकार का दान अनुदान फण्ड नही प्राप्त करता है बल्कि यह कार्य थाना एवं संगठन में जुड़े लोगों के सहयोग से किया जाता है। इसी क्रम में इस संगठन के सदस्यों की मुलाकात 5 अप्रैल 2021 से गुमशुदा 7 अप्रैल 2021 को एक लावारिस युवती से हुई जो अचेत अवस्था मे थी ।

जिसको संगठन के सदस्यों ने ईलाज हेतु जिलाचिकित्सालय गोराबाजार के महिला वार्ड में भर्ती करा कर ईलाज प्रारंम्भ कराया। यह युवती मरदह थाना क्षेत्र से मिली थी जिसके सहयोग में चाइल्ड लाइन गाजीपुर 1098 जनग्रामीण विकास संस्थान गाजीपुर के कर्मचारी एवं मैनेजर विमला मौर्या का योगदान रहा।

उपरोक्त के सन्दर्भ मे जनपद में लावारिस के वारिस के नाम से विख्यात संगठन संचालक कृष्णा नन्द उपाध्याय के द्वारा फेसबुक एवं सोशल मीडिया न्यूज के माध्यम से युवती के फोटो का प्रसारण किया गया जिसकी पहचान 8 अप्रैल 2021 शाम 8 बजे उसके भाई सलमान पुत्र मुहम्मद जान निवासी मछली मण्डी सहादतपुरा जनपद मऊ के रूप में हुई।

सलमान को जब उसकी गुमशुदी बहन प्राप्त हुई तो सलमान के आँखों में खुशी के आँसू छलकने लगे और संगठन के संचालक कृष्णा नन्द उपाध्याय एवं सहयोगी सदस्य चंदन राय धनन्जय सिंह पंकज यादव शैलेन्द्र यादव समेत सभी लोगों का आभार ब्यक्त किया और दुसरे लोगों को भी सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करने का वादा किया।




Read Previous

प्रेमी से मिलने पाकिस्तान जा रही थी ओडिशा से आई महिला, बीएसएफ ने बॉर्डर पर पकड़ा

Read Next

उप जिला अधिकारी कासिमाबाद के निर्देश पर गांव में लगी आग से बचाव के तरीके समझाने हेतु लोगों को एकत्रित कर लेखपाल ने किया कोविड-19 (COVID-19) नियमों का उल्लंघन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
error: Content is protected !!