the jharokha news

हनुमान मंदिर में मिली मिथुनरत मूर्तियां ,  लोगों ने काटा हंगा

नई दिल्ली : देश की राजधानी नई दिल्ली में स्थित एक हनुमान मंदिर मैं मिथुन रत मूर्तियां मिलने से वहां के समाजसेवी संगठनों और अन्य लोगों ने जमकर हंगामा काटा।  यह मामला दिल्ली के विवेक विहार का बताया जा रहा है।  हंगामा होते देख मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया लकी का घटना शुक्रवार की बताई जा रही है ।  इस संबंध में मंदिर प्रबंधन कमेटी के जनरल सेक्रेटरी ने कहा की मूर्तियां राजस्थान से मंगवाई जाती हैं। यह खेप 14 अगस्त को आई थी। हालाँकि गलती से इस खेप के साथ खजुराओ शैली के चार पत्थर भी आ गए, जो बंद पैकेट में थे। जब पैकेट खुला जब पता चला।

यह है मामला

मामले के अनुसगर दिल्ली के विवेक विहार में स्थित एक हनुमान बालाजी मंदिर के बेसमेंट के अंदर से खजुराहो की तरह की मूर्तियां बरामद हुई हैं।  इसकी जानकारी मिलते ही मौके पर लोगों की भीड़ कच्ची होनी शुरू हो गई और लोगों ने हनुमान जी के मंदिर के बाहर हंगामा खड़ा कर दिया। देखते ही देखते सड़क पर लंबा ट्रैफिक जाम हो गया । सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत करवाते हुए भीड़ को तितर-बितर किया।  इस संबंध में  मंदिर प्रबंधन ने  पुलिस को बताया कि  इस तरह की चार कलाकृतियां गलती से  पैनल पत्थरों के साथ पैक हो कर आ गई  थी।  पुलिस ने बताया कि इन चारों कलाकृतियों को  कब्जे में लेकर मामले की जांच की जा रही है । प्रबंधन का कहना है कि कलाकृति वाले या पत्थर डिस्पैच की गलती है यहां पर उतर गए यह कलाकृतियां किसी और पते पर जानी थी हालांकि पुलिस मामले की तफ्तीश कर रही है।

मंदिर प्रबंधन की सफाई,  डिस्पैच की गलती

मंदिर प्रबंधन कमेटी के जनरल सेक्रेटरी विनोद कुमार ने बताया की लॉक डाउन की वजह से मंदिर में भक्तों का आना नहीं हो रहा है ।  इस बीच मंदिर के निर्माण का कार्य चल रहा है ।  ऐसे में राजस्थान से बहुत सारी पत्थर की कलाकृतियों को मंगवाया गया था। अपनी कलाकृतियों में खजुराहो प्रकृति की यह कलाकृतियां गलती से डिस्पैच हो गई होंगी जिन्हें , मूर्ति भेजने वाले से संपर्क कर वापस कर दिया जाएगा।

Read Previous

वट वृक्ष के नीचे हुई थी ऊं की व्‍याख्‍या

Read Next

अगर हिन्दू धर्म कई हजार वर्ष पुराना है तो फिर भारत के बाहर इसका प्रचार क्यों नहीं हुआ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!