the jharokha news

ओमप्रकाश राजभर जहुराबाद में नहीं किया काम,जिसके वजह से छोड़ना पड़ा जहुराबाद सीट

रजनीश कुमार मिश्र गाजीपुर। जहुराबाद के वर्तमान विधायक व पुर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर जहुराबाद के लोगों के बीच अपना थोड़ा भी समय दिये होते तो आज वाराणसी के शिवपुर सीट से चुनाव लड़ने की नौबत नहीं आती।भले ही ओमप्रकाश राजभर वर्तमान कैबिनेट मंत्री अनील राजभर के खिलाफ चुनाव लड़ने का दम भर रहे हो।लेकिन जहुराबाद से हार का डर उनको कही ना कही सता रहा था।

जहुराबाद विधानसभा क्षेत्र के स्थानीय लोगों का यही कहना है,की ओमप्रकाश राजभर जहुराबाद विधानसभा हारने के डर के वजह से वो शिवपुर से चुनाव लड़ रहे है।जहुराबाद के वर्तमान विधायक ओमप्रकाश राजभर के अंदर भला डर क्यो ना हो।अगर काम किया होता तो हारने का डर नहीं होता।जहुराबाद विधानसभा की जनता ने कहा की ओमप्रकाश राजभर ने जहुराबाद विधानसभा छोडकर अपना इज्ज़त बचा लिया।

नहीं तो यहां के लोग उनसे पांच साल का हिसाब करते।जहुराबाद विधानसभा में आने वाले कासिमाबाद तहसील के लोगों ने कहा की ओमप्रकाश भाजपा का शुक्रिया अदा करे की अपने राजनितिक करियर में पहली बार जहुराबाद से जीत का स्वाद चखा।लोगों ने कहा की ओमप्रकाश को इसलिए यहां की जनता ने विधायक बनाया की कुछ काम करेंगे।लेकिन ओमप्रकाश राजभर जहुराबाद की जनता के उम्मीदों से खिलवाड़ किया|

पांच साल सिर्फ सरकार पर आरोप लगाते रह गये।जहुराबाद के विधायक ओमप्रकाश राजभर अगर अपने क्षेत्र में थोड़ा भी काम किया होता तो आज ये नौबत नहीं आती।जितना समय वो सरकार पर आरोप लगाने व बेतुका बयान देने में दिया।अगर थोड़ा समय निकाल कर अपने विधानसभा क्षेत्र की जनता में दिये होते तो आज जहुराबाद सीट से ताल ठोक कर यहां से चुनाव लड़ते।

जहुराबाद क्षेत्र के अलावलपुर के लोगों ने कहा की वो सरकार में नहीं थे। लेकिन विधायक निधि तो उनका था।विधायक निधि से थोड़ा भी काम किये होते तो जहुराबाद का नक्शा ही बदल गया होता।जहुराबाद की जनता ने कहा की अगर ओमप्रकाश राजभर के पार्टी से किसी को भी जहुराबाद सीट से टिकट मिलता है।चाहे वो ओमप्रकाश के पुत्र अरविन्द राजभर ही क्यो ना हो।उनको यहां की जनता वोट नहीं करेगी।क्यो की जनता को मुर्ख बनाना इनलोगों के फितरत में है।अब जहुराबाद की उस व्यक्ति को वोट करेगी जो जहुराबाद का विकास करेगा।







Read Previous

Corona कोरोना से बचाएगी तुलसी

Read Next

Republic day special : गणतंत्र दिवस पर जब नाची थीं इंदिरा गांधी