the jharokha news

राजनीति उत्तर प्रदेश

UP Election : जहूराबाद Jahurabad, 44 साल में चार मंत्री, फिर भी बुराहाल

The jharokha Desk : UP Election अपने चरम पर पहुंच रहा है। सियासी जोड़ तोड़ और दांव पेंच का खेल शुरू हो गया है। पश्चिमी यूपी में नाम पत्रों को दाखिल करने का काम शुरू हो गया है तो पूर्वी UP टिकट बंटवारे को लेकर गुणा-गणित लगाया जा रहा है। ऐसे में पूर्वांचल के कुछ एक हॉट सीटों में से जहूराबाद Jahurabad विधानसभा क्षेत्र की सीट काफी चर्चा में हैं। यह सीटी जहां भाजपा के निए नाक का सवाल बनी हुई हैं वहीं, यही समाजवादी पार्टी के लिए भी किसी परेशानी से कम नहीं है। ऐसे में जहूराबाद Jahurabad विधानसभा क्षेत्र के राजनैतिक इतिहास पर एक बार नजर दौड़ा लेना जरूरी है। आइए देंखे The jharokha.com की यह रिपोर्ट-

1977 में हुआ था विधानसभा 377 का गठन

गाजीपुर जिले के सात विधानसभा सीटों में से एक जहूराबाद Jahurabad विधानसभा 377 का गठन 1977 में हुआ था। तब पहलें चुनाव में 51, 281 वोट पड़े थे। उस समय इस सीट पर जेएनपी के विश्वनाथ सिंह उर्फ कृष्णकांत सिंह और भाकपा के जयराम आमने सामने थे, जिसमें भकपा प्रत्याशी जयराम ने चुनाव जीत कर विधानसभा की दहलीज पर पहुंचे थे।

44 साल में चार मंत्री, फिर भी बुराहाल

1977 से लेकर अब तक 11 बार विधानसभा के चुनाव हो चुके हैं, और 12 वीं विधासभा चुनाव के लिए रण तैयार है। ऐसे में इन 44 सालों में Jahurabad विधानसभा क्षेत्र ने उत्तर प्रदेश सरकार में चार-चार मंत्री दिए, लेकिन बदकिश्मती से यह चारों मंत्री क्षेत्र का विकास करने में नाकाम रहे।

चुनाव सिर पर है इसलिए सवाल होना लाजीमी है

उत्तर प्रदेश की 16वीं विधानसभा का चुनाव सिर पर है, इस लिए जहूराबाद विधानसभा क्षेत्र से चुन कर भेजे जा चुके और भेजे जाने वाले प्रत्याशियों से सवाल होना लाजीमी है। Jahurabad विधानसभा क्षेत्र की जनता पूछती है कि इन 44 सालों में जिन लोगों को जनप्रतिनिधि चुन कर सत्ता के गलियारों तक भेजा है उन्होंने जहूराबाद को क्या दिया है। क्षेत्र और यहां की जनता के विकास के लिए क्या किया है।
क्षेत्र के लोग कहते हैं कि यदि जहूराबाद में थोड़ा-बहुत जो काम हुआ है या हुआ था वह तत्कालीन कांग्रेस सरकार के पूर्व राज्य मंत्री सुरेंद्र सिंह ने किया है, इसके बाद जो भी मंत्री बने चाहे वह बसपा सरकार में हथकरघा मंत्री रहे इश्तियाक अंसारी हो, सैयद सादाब फातिमा रही हों या फिर ओम प्रकाश राजभर। किसी ने भी कुछ नहीं किया।

ये रहे मंत्री
वर्ष    सरकार      नाम
1980  कांग्रेस    सुरेंद्र सिंह सहकारिता राज्य मंत्री
1993  बसपा     इस्तियाक अंसारी हथकरघा मंत्री
2012  सपा       सैयद सादाब फातिमा राज्य मंत्री
2017  भाजपा  ओम प्रकाश राजभर दिव्यांग कल्याण मंत्री







Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit...