विशुनपुरा के ग्राम प्रधान पर घोटाले का आरोप, गाजीपुर से आई टीम ने की जांच 

विशुनपुरा गांव के जय श्री यादव ने ग्राम प्रधान जितेन्द्र यादव पर आरोप लगया की गांव के प्रधान जितेन्द्र यादव द्वारा शौचालय का पैसा उन लोगों को आवंटित किया गया है, जो इसके पात्र नहीं और उनके घर में सरकारी नौकरी है।

0
विशुनपुरा के ग्राम प्रधान पर घोटाले का आरोप, गाजीपुर से आई टीम ने की जांच 

मुख्‍य बिन्‍दु

विशुनपुरा के जय सिंह यादव ने शाैैैैैैचालय बनवाने के लिए आई ग्रांट में लगाया घोटाले का आरोप कहा, एक घर में दो दो लोगों को आवंटित किया गया प्रधानमंत्री स्‍वच्‍छ भारत योजना का पैसा, सरकारी नौकरी करने वालों को भी दिया गया फंड, ग्राम प्रधान ने कहा- जानकारी के अभाव में एक दो लोगों को आवंटित हो गया है फंड 

रजनीश कुमार मिश्र, बाराचवर (गाजीपुर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्‍छ भारत मिशन के तहत देश के हर राज्य में शौचालय निर्माण के लिए जरूरतमंद परिवारों को बारह हजार की सहयोग राशि दी थी। ताकी, देश के हर गांव के हर घर में शौचालय हो। ताकि देश स्वच्छता की ओर बढ़ सके लेकिन ग्राम प्रधानो ने शौचालय की धनराशि उन लोगों को आवंटित कर दिया जो इसके योग्‍य नहीं थे। ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जनपद मोहम्दाबाद तहसील अंतर्गत बाराचवर विकास खण्ड नसीरपुर विशुनपुरा गांव से सामने आया है।

विशुनपुरा गांव के जय श्री यादव ने ग्राम प्रधान जितेन्द्र यादव पर आरोप लगया की गांव के प्रधान जितेन्द्र यादव द्वारा शौचालय का पैसा उन लोगों को आवंटित किया गया है, जो इसके पात्र नहीं और उनके घर में सरकारी नौकरी है। जय श्री यादव ने बताया की ग्राम प्रधान जितेन्द्र यादव एक ही घर में दो लोगों को शौचालय की धनराशि आवंटित किया है। हालांकि ग्राम प्रधान जितेंद्र यादव ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया।

ग्राम प्रधान ने सरकारी धन का किया दुरुपयोग

शिकायतकर्ता जय श्री यादव ने बताया की ग्राम प्रधान जितेंद्र यादव ने शौचालय बनाने के लिए आई ग्रांट का दुरप्रयोग किया है। उन्होंने बताया की विशुनपुरा के ग्राम प्रधान ने उन लोगों को पैसा आवंटित किया है। जिनके घर मे सरकारी नौकरी है। यही नहीं ग्राम प्रधान ने घोटाले को और बढ़ाते हुए एक ही घर में दो दो लोगों को शौचालय का पैसा आवंटित कर दिया।
जय श्री यादव ने बताया की ग्राम प्रधान ने ऐसे करीब दस लोगो को शौचालय बनवाने के लिए धन राशि आवंटित किया है जो सरकारी नौकरी कर रहें और पेंशनर हैं।

जानकारी न होने से दो चार नौकरी वालों को आवंटित हो गया पैसा

वहीं ग्राम प्रधान जितेंद्र यादव ने बताया की शौचालय के धनराशि का दुरपयोग हमारे द्वारा नहीं किया गया जो हमारे उपर आरोप लग रहे हैं। वो सरासर गलत है। हालांकि ग्राम प्रधान ने इस बात को माना की शौचालय का सर्वे करते वक्त जानकारी नहीं हो पाई। जिसके वजह से दो चार सरकारी नौकरी वालो को शौचालय का धन आवंटित हो गया।

ग्राम प्रधान पर अपात्रो को सरकारी सुबिधा देने का लगा आरोप,जांच से विपक्ष संतुष्ट नहीं
गांव विशुनपुरा में जांच करती टीम। फोटो – द झरोखा न्‍यूज

मानक के अनुरूप नहीं बने गांव के शौचालय

शिकायतकर्ता जय श्री यादव ने आरोप लगाया की जो शौचालय का निर्माण कराया गया है,वो मानक के अनुरूप नहीं बना है। शिकायतकर्ता ने बताया की शौचालय के निर्माण मे सिर्फ सफेद बालु का प्रयोग किया गया है।जिसके वजह से निर्माणाधीन शौचालय एक साल के अंदर ही जगह जगह से पर्ते छोड़ने लगा है।

जरुरतमंदो को नहीं किया गया धन आवंटित

शिकायतकर्ता जय श्री यादव ने बताया की जरुरतमंदों को शौचालय का पैसा आवंटित नहीं कीया गया है।उन्होंने बताया की प्रधान द्वारा हाथ से लिखी सूचि दिखलाई जा रही है। जो नेट द्वारा निकलवाया गया सूचि से मेल नहीं हो रहा है। क्यो की जिसके नाम से शौचालय की सूचि तैयार किया गया है।वहीं सरकार को भेजी जाती है। उन्होंने बताया की नेट के माध्यम से निकलवाया गया सूची में आधे लोग अपात्र पाये गये है।

एक्सप्रेस वे में जाने के बावजूद भी तलाब का मनरेगा के तहत कराया गया खोदाई

शिकायतकर्ता जय श्री ग्राम प्रधान पर आरोप लगाते हुए कहते है,की प्रधान ने उस तलाब की भी खुदाई करवा दिया।जो पूर्वांचल एक्सप्रेसवे में पड़ा है।उन्होंने बताया की अखिलेश सरकार ने सन्2014,15 मे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लिए जमीन आवंटित किया था।वही ग्राम प्रधान जितेंद्र यादव ने बताया की हमारे यहां कोई नोटिस नहीं भेजा गया था।प्रधान ने बताया की पोखरी की रजिस्ट्री नहीं हुई थी।वहां पोखरी की जरुरत थी।

ग्राम प्रधान पर अपात्रो को सरकारी सुबिधा देने का लगा आरोप,जांच से विपक्ष संतुष्ट नहीं
गाजीपुर जिले के गांव विशुनपुरा में प्रधान की ओर से किए गए कथित घोटाले की जांच करने पहुंची टीम। फोटो – द झरोखा न्‍यूज

जांच पूरी हो चुकी है, रिपोर्ट डीएम को सौंपेंगे

जांच करने आये लघु सिंचाई अधिकारी ने बताया की नसीरपुर गंधपा (विशुनपुरा) गांव के जय श्री यादव यहां के खिलाफ जिलाधिकारी महोदय के पास.जांच करने के लिए अपील किया था।जिसमे गोरील बाबा के पोखरी के साथ शौचालय की जांच की मांग किया। था। जांच अधिकारी ने बताया की कायतकर्ता ने शौचालय जांच के लिए जहां, जहां लेकर गये वहां जांच किया गया। जांच अधिकारी ने बताया की वहां पोखरी अस्तीत्व में नही है। अधिकारी ने बताया की शिकायतकर्ता अखबार की कटिंग भी दिखला रहे थे। अब सभी रिपोर्ट जिलाधिकारी महोदय के पास पेश किया जायेगा। उसके बाद जिलाधिकारी को जो करना होगा वो करेंगे।

जांच अधिकारी ने कहा, शौचलय मौके पर मिले सही

जांच करने आये लघु सिंचाई विभाग के अधिकारी ने बताया की 154 शौचालये का पैसा आया है जिसमे 149 का लिस्ट दिया है,और पाच निर्माणाधीन बता रहे है।जांच अधिकारी ने बताया की शौचालय लगभग सभी मौके पर मिल रहे है,जिसमे कुछ का दरवाजा टुटा हुआ. है।क्यो की लाभार्थी शौचालय का रख रखाव सही ढंग से नहीं कर रहें है। जांच अधिकारी ने बताया की गस तरह का कोई भी शौचालय नहीं मिला जो लिस्ट में हो और मौके पर निर्माणधीन ना हो।

जांच से संतुष्‍ट नहीं हूं, कोर्ट तक जाऊंगा

वही प्रधान ने बताया की पोखरी की खोदाई के वक्त किसी भी अधिकारी द्वारा नोटिस नहीं दिया गया। शिकायतकर्ता जय श्री यादव इस जांच से संतुष्ट नहीं है। शिकायतकर्ता ने बताया की मै इस जांच से संतुष्ट नहीं हूं। जांच ठीक से नहीं किया गया। इस मामले को लेकर कोर्ट तक जाऊंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here