the jharokha news

Shivratri Special in hindi, खास है लखनेश्वरडीह का शिव मंदिर, लक्ष्मण ने की स्थापना, महाशिवरात्रि के दिन यहां पूजा करने से मिलता है मनवांछित फल

shivratri special in hindi :बलिया । उत्तर प्रदेश के बलिया और गाजीपुर जनपद की सीमा पर छोटी सरयू नदी के किनारे स्थित लखेश्वर डीह अपने आगोश में कई ऐतिहासिक रहस्यों को समेटे हुए हैं। ऐतिहासिक महत्व के बारे में इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है इसका उल्लेख अंग्रेज इतिहासकार ए फ्यूहरर ने अपनी शोध पत्रिका में भी किया था। यही नहीं यहां की खुदाई से भगवान विष्णु की मूर्तियां और कई शिवलिंग मिले थे ।

डा.ब्रह्मानंद सिंह ने भी अपने शोधपत्र में इस महत्वपूर्ण स्थल का उल्लेख किया है। कहा जाता है कि यहां पर बने शिव मंदिर में प्रतिष्ठित शिवलिंग की स्थापना भगवान राम छोटे भाई लक्ष्मण ने किया था । यह भी मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन यहां पर भगवान शिव की पूजा अर्चना करने से भक्तों की मनवांछित मुरादें पूरी होती हैं। महाशिवरात्रि के दिन यहां पर भव्य मेला लगता है और लोग छोटी सरयू में स्नान कर भगवान शिव को बेलपत्र और जल अर्पित कर पूजा अर्चना करते हैं। यहां का शिवलिंग अन्य थोड़ा अलग है। यहां प्रतिष्ठित शिवलिंग पर स्पष्ट तौर से मनुष्य की पांच उंगलियों के निशान दिखाई देते हैं।

Shivratri Special in hindi : रामायण काल से है संबंध

जन श्रुतियों और लोक मान्यताओं के अनुसार लखेश्वर डीह का संबंध रामायण काल से माना जाता है। लोगों की ऐसी अवधारणा है कि भगवान श्री राम वन गमन के समय अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी सीता के साथ इस स्थान पर आए थे। यह भी मान्यता है कि यहीं पर उन्होंने एक रात्रि विश्राम किया था और यहीं पर भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण ने छोटी सरयू नदी में स्नान कर शिवलिंग की स्थापना की थी। इसके बाद यहां पर कालांतर में गुप्त राजाओं ने भी मंदिर का निर्माण करवाया था। कहा जाता है कि यहीं पर भगवान शिव के साथ-साथ विष्णु का भी मंदिर बनाया गया था।

राम के नाम से पड़ा राम घाट

छोटी सरयू के किनारे बसे गांव को श्री राम ने बसाया था। इस गांव का नाम राम घाट था। जो कालांतर में आम घाट के नाम से जाना जाता है। भगवान राम से जुड़ी इस कहानी को गांव वाले बड़े चाव से सुनाते हैं। Shivratri Special in hindi

Start at 0:00


Read Previous

बाराचवर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आम जनमानस का शुरू हुआ वैक्सिनेशन

Read Next

मोहम्मदपुर दो सौ साल अतिप्राचीन शिव मंदिर,जहां शिवरात्रि के दीन लगता है,भक्तों का भीड़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
error: Content is protected !!