Youtube Channel Image
अंग्रेजी में भी पढ़ें अब समाचार अंग्रेजी में भी पढ़ें
मुफ्त पढ़ें

the jharokha news

UP Election 2022 : आगरा में भाजपा को झटका, पूर्व सांसद प्रभु दयाल कठेरिया ने पार्टी छोड़ी

UP Election 2022 : आगरा में भाजपा को झटका, पूर्व सांसद प्रभु दयाल कठेरिया ने पार्टी छोड़ी

UP Election 2022 : आगरा। आगरा में भाजपा को एक और बड़ा झटका लगा है । पूर्व सांसद प्रभु दयाल कठेरिया ने प्रदेश उपाध्यक्ष और राष्ट्रीय परिषद के पद से इस्तीफा दे दिया है । तीन बार के सांसद प्रभु दयाल कठेरिया लंबे समय से भाजपा से टिकट पाने की उम्मीद लगाए बैठे थे , लेकिन टिकट नहीं मिली तो उन्होंने पार्टी के पदों से इस्तीफा दे दिया ।

आप में शामिल हुए कठेरिया के बेटे अरुण कांत, लड़ेंगे आगरा ग्रामीण से चुनाव

पूर्व सांसद प्रभु दयाल कठेरिया ने कहा कि वह भाजपा के सदस्य बने रहेंगे लेकिन किसी पद पर काम नहीं करेंगे । इस मौके पर प्रभु दयाल कठेरिया के बेटे अरुण कांत ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की और आगरा की ग्रामीण विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने की बात कही । आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष बने सिंह ने पुष्टि की है कि प्रभु दयाल कठेरिया के पुत्र अरुण कांत पार्टी की टिकट पर आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट से प्रत्याशी होंगे ।

बेटे अरुणकांत के लिए टिकट मांग रहे थे कठेरिया

प्रभु दयाल कठेरिया ने वर्ष 2012 , 2014 और 2017 में अपने लिए टिकट मांगा था । प्रभु दयाल कठेरिया इस बार अपने बेटे अरुण कांत के लिए आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट से टिकट मांग रहे थे लेकिन टिकट बेबी रानी मौर्य को दे दी गई । इस बात से आहत प्रभु दयाल कठेरिया पार्टी की कमान से नाराज है और कह रहे हैं कि जुल्म करने वाले से ज्यादा जुल्म सहने वाला गुनहगार होता है । चुनाव में प्रभु दयाल कठेरिया भाजपा के लिए प्रचार करेंगे या अपने बेटे के लिए इस सवाल पर उन्होंने कहा कि वक्त आने पर बताऊंगा ।

प्रभु दयाल कठेरिया और उनके बेटे ने बिगाड़ा आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट का गणित

पूर्व सांसद प्रभु दयाल कठेरिया तीन बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं । उनके बेटे अब आम आदमी पार्टी से आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ने जा रहे हैं । ऐसे में माना जा रहा है कि आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट पर गर्मा गर्मी बढ़ेगी । भाजपा प्रत्याशी के सामने चुनौती बढ़ेगी । प्रभु दयाल कठेरिया के पुत्र जिन वोटों में सेंधमारी करेंगे ।

उसका नुकसान भाजपा प्रत्याशी को उठाना पड़ेगा । आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट की जनता पहले से ही विधायक रही हेमलता दिवाकर कुशवाहा से नाराज हैं । ऐसे में अब पार्टी के कद्दावर नेता के पुत्र के चुनावी मैदान में उतरने से भाजपा की प्रत्याशी बेबी रानी मौर्य के सामने चुनौतियां भी बढ़ गई है ।







Read Previous

Punjab Election 2022 : पंजाब में अब 14 को नहीं, 20 फरवरी को होगा मतदान

Read Next

बागपत में प्रॉपटी डीलर की देर रात्रि में गोली मारकर हत्या, सनसनी फैली

x