the jharokha news

आफताब ने क्राइम शो देख सीखा मर्डर का तरीका, फिर श्रद्धा के किए 35 टुकड़े

Aftab learned the method of murder by watching crime show, then 35 pieces of Shraddha

आरोपी आफताब पूनेवाला। फोटो : सोशल साइट से

Delhi : लीव इन पार्टनर श्रद्धा मार्डर केस में जो खुलासे हुए हैं उसे जान कर कसाई के भी रोंगेटे खड़े हो जाएंगे। मुंबई की मलाड की रहने वाली जिस श्रद्धा की करी छह माह पहले उसके प्रेमी आफताब ने हत्या कि उसके तरीके हर किसी को हैरान कर देंगे।

दक्षिणी दिल्ली पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर सोमवार को इस क्रूर से क्रूरतम हत्या कांड दिल दहला देने वाले हत्या कांड का खुलासा किया। पुलिस के मुताबिक आफताब पूनेवाला 26 वर्षीय श्रद्धा की हत्या का प्लान काफी लंबे समय से बना रहा था। इसके लिए उसने पहले पूरी तैयारी की। पुलिस पूछताछ में आफताब ने बताया कि वारदात को अंजाम देने से पहले वह अमेरिकी क्राइम शो डेक्स्टर, क्राइम पेट्रोल सहित कई क्राइम शोज देखे थे। इसके बाद उसने गुगल पर खून के धब्बे साफ करने तरीके सीखे ।

इसके बाद उसने श्रद्धा की हत्या कर उसके शव के आरी से 35 टुकड़े कर दिए। इसके बाद आरोपी आफताब शवों के इन टुकड़ों को 18 दिन तक फ्रीज में संभाल कर रखा और रोज को दो बजे शव को इन टुकड़ों को जंगल में अलग-अलग जगहों पर फेंकता रहा। फिलहाल कोर्ट ने आरोपी आफताब को पांच दिन के रिमांड पर भेज दिया है।

यह है पूरा मामला

चलिए अब आपको बताते हैं क्या है पूरा मामला। पुलिस और मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 26 साल की श्रद्धा मदान मुंबई के मलाड इलाके की रहने वाली थी। वह और आफताब अमीन पूनावाला एक मल्टीनेशन कंपनी के काल सेंटर में काम करती थी। यहीं पर साल 2019 में श्रद्ध और आफताब की मुलाकात हुई और दोनो का इश्क परवान चढ़ा। हलांकि श्रद्धा और आफताब के रिश्तों से श्रद्धा के घर वाले नाखुश थे। बारबार समझाने के बावजूद जब श्रद्धा नहीं मानी तो उसके घरवालों ने उससे रिश्ता खत्म कर लिया। इसके बाद श्रद्धा और आफताब दोनों मुंबई से दिल्ली शिफ्ट हो गए। वे दोनो दिल्ली के मेहरौली में किराए के एक फ्लैट लिव इन में रहने लगे। इस दौरान श्रद्धा आफताब पर शादी के लिए दबाव बनाने लगी। इस बात को लेकर दोनों में झगड़ा होता था।

ऐसे खुला हत्या का राज

पुलिस के मुताबिक अपने परिजनों रिश्ता खत्म करने बाद भी श्रद्धा लक्ष्मण नाम के अपने एक सहपाठी के संपर्क में थी। वह अकसर फोन पर बातें कर अपना और अपनी घरवालों का कुशल क्षेम पूछती और बताती। लक्ष्मण ही श्रद्धा और उसके पिता की बीच की कड़ी था जो श्रद्धा के बारे में उसके पिता विकास मदान को बताता था। पुलिस के मुताबिक जब श्रद्धा ने कई दिन तक लक्ष्मण का फोन नहीं उठाया तो लक्ष्मण को कुई अनहोनी की आशंका हुई। इसके बाद उसने श्रद्धा के पिता को जानकारी दी। इसके बाद विकास मदान श्रद्धा हाल जानने आठ नवंबर को दिल्ली पहुंचे। तब तक सब कुछ खत्म हो चुका था। विकास श्रद्धा के फ्लैट पर पहुंचे तो वहां ताला लगा हुआ था। इसके उन्होंने महरौली पुलिस स्टेशन में बेटी के अगवा होने की शिकायत दर्ज करवाई। इसके बाद जब पुलिस ने आरोपी आफताब पूनावाला को काबू कर लिया। इसके बाद जो सच सामने आया उसे जानकार आपके रोंगटे खड़े खड़ हो जाएंगे।

[metaslider id="25450"]





Read Previous

Ludhiana News : हेड कांस्टेबल ने थाने की बैरक में लगाया फंंदा,  मौत

Read Next

Ghazipur News : सांसद अफजाल अंसारी मुहम्मदाबाद CJM की कोर्ट में पेश